शेयर क्या होते हैं (Share in Hindi)

शेयर का अर्थ है अंश यानी हिस्सा यदि आपके पास किसी कंपनी के शेयर है तो आप उस कंपनी के उतने हिस्से के मालिक बन जाते हैं जितने शेयर आपके पास हैं. शेयर को हिंदी में अंश कहते हैं और शेयर होल्डर को अंशधारक. शेयर बाजार से शेयर खरीद कर आप भी वहां लिस्टेड किसी भी कंपनी के मालिक बन सकते हैं.

शेयर क्या होते हैं (Share in Hindi)
Share in Hindi

शेयर क्या होते हैं (Share in Hindi)

 शेयर को हिंदी में अंश कहते हैं और शेयर होल्डर को अंशधारक. शेयर बाजार से शेयर खरीद कर आप भी वहां लिस्टेड किसी भी कंपनी के मालिक बन सकते हैं. आप जितना शेयर खरीदेंगे उस कंपनी में आप उतने ही हिस्से के मालिक बन जाएंगे. सभी शेयर कंपनी द्वारा घोषित किये गए सभी Dividend डिविडेंड अथवा Bonus Share बोनस शेयर के अधिकारी होते हैं.

 

शेयर की परिभाषा :-

परिभाषा के तौर पर शेयर का अर्थ होता है, “किसी कंपनी की कुल पूंजी को कई सामान हिस्सों में बांट देने पर जो पूंजी का सबसे छोटा हिस्सा बनता है उस हिस्से को शेयर कहा जाता है।”

शेयर मीनिंग को सही तरीके से समझने के लिए एक उदाहरण देखते हैं

मान लीजिए डीसी लिमिटेड की कुल पूंजी ₹1,00,000 हैं। कंपनी अपनी कुल पूंजी को 1000 समान भागों में बांट देती है। इस प्रकार कंपनी के प्रत्येक भाग की वैल्यू ₹100 (100000÷1000) हुई। ये ₹100 का भाग ही डीसी लिमिटेड का सबसे छोटा भाग है। पूंजी का ये सबसे छोटा भाग ही शेयर कहा जाता हैं।

कंपनी की कुल पूंजी को शेयर कैपिटल (Share Capital) भी कहा जाता हैं। कंपनी की शेयर कैपिटल इस फॉर्मूले द्वारा निकाली जाती हैं –

SHARE CAPITAL = Total number of Shares × Share Price

ऊपर वाले उदाहरण में कुल शेयर 1000 हैं और शेयर प्राइस ₹100 तो कंपनी की शेयर कैपिटल ₹1,00,000 हुई।

कंपनियां शेयर क्यों जारी करती हैं?

एक निवेशक के नाते आपके मन में सवाल आ सकता है कि कोई कंपनी शेयर जनता को क्यों जारी करती है। किसी भी प्राइवेट कंपनी या पार्टनरशिप फर्म के शेयर उनके फाउंडर और पार्टनर्स के पास रहते हैं। जब यह कंपनियां लगातार ग्रो करती हैं तो इनको अधिक पूंजी की आवश्यकता होती है।

इनके पास अतिरिक्त पूंजी जुटाने के दो विकल्प होते हैं पहला ऋण और दूसरा पब्लिक। कंपनिया अतिरिक्त पूंजी प्राप्त करने के लिए अपने शेयर जनता को बेचने के लिए निकालती हैं। इसके लिए कंपनी अपना IPO (Initial Public Offer) लेकर आती हैं। आईपीओ के बाद कंपनी के शेयर स्टॉक मार्केट में सूचीबद्ध (listed) हो जाते हैं जहां पर सेकेंडरी मार्केट में इनकी खरीद-बिक्री चालू हो जाती हैं।

इस प्रकार स्टॉक मार्केट में लिस्ट होने के कारण कंपनी की ब्रांड वैल्यू में इजाफ़ा होता है और साथ ही पूंजी भी प्राप्त हो जाती हैं।

 

शेयर के फ़ायदे – Benefits of Shares

अगर आपके पास किसी कंपनी के शेयर है तो आपको शेयर होल्ड करने के कई लाभ प्राप्त होते हैं।

1.लाभांश (Dividend) :-

अगर किसी कंपनी के शेयर आपके पास है और कंपनी अच्छा मुनाफा कमा रही है तो कंपनी आपको डिविडेंड का भुगतान कर सकती हैं। वैसे शेयर होल्डर्स को डिविडेंड देना या नहीं देना पूर्णतया कंपनी के मैनजमेंट पर निर्भर करता है। परंतु आप ऐसी कंपनी में निवेश कर रहे हैं जो की  निरंतर रूप से हानि हैं तो शायद आपको उस कंपनी से डिविडेंड नहीं मिलेगा।

2.शेयर वैल्यू ग्रोथ (Share value growth) :-

यदि आपके द्वारा खरीदे गए शेयर के मूल्य में इजाफा होता है तो आप इसे बेचकर लाभ कमा सकते हैं। यदि कंपनी का बिजनेस अच्छा चल रहा है और कंपनी लगातार ग्रो कर रही है तो धीरे-धीरे कंपनी के स्टॉक प्राइस में भी वृद्धि होगी।

मान लीजिये आपने ABC लिमिटेड का एक शेयर ₹100 में खरीदा है। कुछ समय बाद उस शेयर की कीमत ₹130 हो गई। यदि आपने उस शेयर को उस समय बेच दिया तो आपको ₹30 का लाभ होगा।

3.राइट शेयर और बोनस शेयर :-

कभी-कभी कंपनी द्वारा बोनस शेयर्स और राइट इश्यू लाने पर आपका शेयर्स की संख्या में इजाफ़ा होता हैं।

शेयर बाजार :-

शेयर का मतलब होता है हिस्सा. बाजार उस जगह को कहते हैं जहां आप खरीद-बिक्री कर सकें. अगर शाब्दिक अर्थ में कहें तो शेयर बाजार (Stock Market) किसी सूचीबद्ध कंपनी में हिस्सेदारी खरीदने-बेचने की जगह है. भारत में बोम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) नाम के दो प्रमुख शेयर बाजार हैं.

BSE या NSE में ही किसी लिस्टेड कंपनी के शेयर ब्रोकर के माध्यम से खरीदे और बेचे जाते हैं. शेयर बाजार (Stock Market) में हालांकि बांड, म्युचुअल फंड और डेरिवेटिव का भी व्यापार होता है.