आडू के फायदे और नुकसान | Peach ke fayde | health benefits of Peach in hindi

पीच (आडू) गर्मियों के मौसम का फल है और इसका सेवन सेहत के लिए बहुत लाभकारी माना जाता है। आयुर्वेदिक के मतानुसार आडू के औषधीय गुण : आयुर्वेद के अनुसार आडू का फल कषाय, मधुर, अम्ल, उष्ण, गुरु तथा पित्तकफशामक होता है। यह फल डायबिटीज, और बवासीर के इलाज में मदद करता है। आडू का पका हुआ फल स्वाद में मधुर और स्वभाव में गुरू (भारी) होता है। यह कफ और पित्त को कम करने में भी मदद करता है। यह रुचिकर, धातुवर्धक, बृंहण, हृद्य तथा शीघ्र पचने वाला है। यूनानी मतानुसार वात एवं कफ प्रकृति के लोगों को आडू का सेवन सूझबूझ के साथ ही करना चाहिये ।

आडू के फायदे और नुकसान | Peach ke fayde | health benefits of Peach in hindi
Peach ke fayde

आडू के फायदे और नुकसान | Peach ke fayde | health benefits of Peach in hindi

(Peach)आडू परिचय :- (पीच) आड़ू का उत्पत्ति स्थान चीन है। कुछ वैज्ञानिकों का मत है कि यह ईरान में उत्पन्न हुआ। यह पर्णपाती वृक्ष है। भारत के पर्वतीय तथा उपपर्वतीय भागों में इसकी सफल खेती होती है। ताजे फल खाए जाते हैं तथा फल से फलपाक (जैम), जेली और चटनी बनती है। फल में चीनी की मात्रा पर्याप्त होती है। जहाँ जलवायु न अधिक ठंढी, न अधिक गरम हो, 15 डिग्री फा. से 100 डिग्री फा. तक के ताप वाले पर्यावरण में, इसकी खेती सफल हो सकती है। इसके लिए सबसे उत्तम मिट्टी बलुई दोमट है, पर यह गहरी तथा उत्तम जलोत्सरण वाली होनी चाहिए। भारत के पर्वतीय तथा उपपर्वतीय भागों में इसकी सफल खेती होती है।

आडू क्या है (What is Peach?)

पीच (आडू) गर्मियों के मौसम का फल है और इसका सेवन सेहत के लिए बहुत लाभकारी माना जाता है। पीले और लाल रंग का यह फल आकार में काफी हद तक सेब जैसा लगता है। आडू में फाइबर, विटामिन, खनिज और पोषक तत्व भरपूर मात्रा में मिलते हैं। इसलिए हर उम्र के लोगों को आडू खाने की सलाह दी जाती है। इस लेख में हम आपको आडू के फायदे, नुकसान और औषधीय गुणों के बारे में बता रहे हैं।

आडू या पीच के पेड़ की लम्बाई छोटी होती है। इसके पेड़ में से गोंद निकलता है और इसकी गिरी में से एक ख़ास किस्म का तेल निकाला जाता है जो कड़वे बादाम तेल की तरह होता है। इससे निकलने वाले गोंद और तेल काफी उपयोगी हैं। इसके अलावा आडू के पेड़ की छाल का इस्तेमाल रंगने के काम में किया जाता है।

अनेक भाषाओं में आडू के नाम (Peach Called in Different Languages)

  • हिंदी :– आडू , आलूका,

  • संस्कृत नाम :– आरुक,पिचुकम्

  • English :– Peach ,Peach tree (पीच ट्री), नेक्टैरिन (Nectarine),

  • Scientific Names :– प्रूनुस पर्सिका

  • उड़िया :पिशू (Pishu)

  • Urdu :– अडुड (Adud)

  • Kannad :- पिच्चीसुहन्ने (Pichchisuhanne), पिचेसू (Pichhesu)

  • Gujrati :– आरू (Aru), शफतालू (Shaftalu)

  • Nepali :– आरु (Aru)

  • Punjabi :– ओर (Aor), आरू (Aru)

  • Arbi : – खुख (khukh) परसीक (Persik)

  • Persian :- फारसी-शफतालू (Shaftalu)

 

आडू  के द्रव्यगुण

  • रस (taste on tongue):- कषाय, मधुर, अम्ल,

  • गुण (Pharmacological Action): - गुरू (भारी)

  • वीर्य (Potency): - शीत

  • विपाक (transformed state after digestion):- मधुर

आडू के गुण : Properties of Peach

आयुर्वेदिक के मतानुसार आडू के औषधीय गुण : आयुर्वेद के अनुसार आडू का फल कषाय, मधुर, अम्ल, उष्ण, गुरु तथा पित्तकफशामक होता है। यह फल डायबिटीज, और बवासीर के इलाज में मदद करता है। आडू का पका हुआ फल स्वाद में मधुर और स्वभाव में गुरू (भारी) होता है। यह कफ और पित्त को कम करने में भी मदद करता है। यह रुचिकर, धातुवर्धक, बृंहण, हृद्य तथा शीघ्र पचने वाला है।

  1. आयुर्वेदिक मत से आडू हृदय को बल देनेवाला तथा प्रमेह, बवासीर, गुल्म और रक्तदोष को नष्ट करनेवाला है।

  2. इसका प्रतिनिधि अमरूद और इसके दर्प को नाश करने वाले शहद और सोंठ हैं।

  3. इसके पत्ते कृमिनाशक और घाव को भरनेवाले होते हैं ।

  4. ये धवल रोग और बवासीर में भी उपयोग में लिए जाते हैं।

  5. इसके फल कामोद्दीपक, मस्तिष्क को बल देने वाले और खून को बढ़ानेवाले होते हैं ।

  6. ये मुंह और कफ की दुर्गन्धि को दूर करते हैं।

  7. इसके बीजों का तेल गर्भस्रावक है।

  8. यह बवासीर, बहरापन, पेट की तकलीफ और कान के दर्द को मिटाता है ।

  9. पंजाब के निवासी इस फल को कृमिनाशक वस्तु की तरह उपयोग में लेते हैं ।

  10. इसकी छाल जलोदर रोग में लाभदायक समझी जाती है ।

  11. इसके बीज कृमिनाशक और दुग्धवद्धक माने जाते हैं ।

  12. यूरोप में इसकी छाल और पत्ते शान्तिदायक, मूत्रल और कफनिस्सारक माने जाते हैं ।

  13. अंतड़ियों की जलन और पाकस्थली के दर्द पर भी यह बहुत मुफीद माना गया है।

  14. खांसी, कुक्कुरखांसी और वायुनलियों के प्रदाह में भी यह दिया जाता है ।

  1. ट्रांसवास में इसके पत्तों का शीतल काथ उन लड़कियों को देते हैं, जिनको बहुत समय तक मासिक स्राव नहीं होता।

  2. कर्नल चोपड़ा के मतानुसार इसके फूल विरेचक हैं और इसका फल अग्निवर्धक और शान्तिदायक है । इसमें प्रसिड नामक एक तत्व पाया जाता है।

  1. बेलफोर के मतानुसार इसका फल स्कह्वी रोग में लाभ पहुँचानेवाला, आमाशय को बल देनेवाला और पाचक है।

  2. इण्डियन मटेरिया मेडिका के मतानुसार इसका पका हुआ फल पेट को मुलायम करनेवाला और लघुपाकी है ।

  3. इसकी पत्तियों का काढ़ा पेट के कृमियों को नष्ट करनेवाला अवसादक है।

  1. इसके फूल और गुठली बवासीर में लाभदायक हैं।

यूनानी मतानुसार इसके गुण :

  1. यूनानी मत से यह दूसरे दर्जे में सर्द और तर है।

  2. यह वात एवं कफ प्रकृति के लोगों को हानि पहुंचाने वाला और ज्वर पैदा करने वाला है।

  3. यूनानी ग्रन्थकार के मतानुसार इसके पत्तों का स्वरस १ छटांक(60 grams) की मात्रा में पीने से तथा पेड पर पत्तों का लेप करने से पेट के कीड़े निकल जाते हैं ।

 

आडू से विभिन्न रोगों का सफल उपचार : Peach benefits and Uses (labh) in Hindi

माहवारी से जुड़ी समस्याओं के इलाज में लाभकारी है आडू (Peach benefits for Menstrual Disorder in Hindi)

अगर आप माहवारी के दौरान तेज दर्द की समस्या से परेशान रहती हैं तो आपको आडू का उपयोग करना चाहिए। आडू, माहवारी में होने वाले दर्द को दूर करने में सहायक है। इसके लिए 1-2 ग्राम बीज चूर्ण या पत्तों का शीतकषाय बनाकर 20 मिली मात्रा में नियमित सेवन करें।

बच्चों के पेट में कीड़ों को खत्म करता है आडू  (Peach benefits for Stomach Worms in Hindi)

बच्चों के पेट में कीड़े पड़ जाने पर बच्चे बहुत परेशान हो जाते हैं। इन कीड़ों की वजह से बार-बार पेट में दर्द होने लगता है। इस समस्या से निजात पाने के लिए आडू के पत्तियों का रस निकालें और इसकी 1-2 एमएल मात्रा बच्चों को पिलाएं। यह पेट के कीड़ों को खत्म करने का एक कारगर घरेलू उपाय है।

पसीने की बदबू दूर करता है आडू (Peach removes Body Odour in Hindi)

पसीने की बदबू की वजह से कई बार आपको सार्वजानिक स्थलों पर शर्मिंदा होना पड़ता है। इस समस्या से निजात पाने के लिए आप आडू का उपयोग कर सकते हैं। आड़ू के पत्तों को पीसकर, शरीर पर मल लें। इसके बाद  गुनगुने पानी से शरीर को धो लें। ऐसा करने से पसीने की दुर्गंध दूर हो जाती है।

घावों के इलाज में करें आडू का उपयोग (Peach helps in Wound Healing in Hindi)

आडू के उपयोग से घाव ठीक हो जाते हैं।  इसके लिए चिकित्सक की सलाह के अनुसार, आडू के पत्तों को पीसकर घाव पर लगाएं। ऐसा करने से घाव कुछ ही दिनों में ठीक हो जाते हैं।

त्वचा रोगों को दूर करता है आडू (Aadu Benefits for Skin Diseases in Hindi)

त्वचा संबंधी रोगों के इलाज में भी आडू का उपयोग फायदेमंद है। त्वचा संबंधी रोगों के लिए आडू की गुठली के तेल का उपयोग करें।

गठिया के मरीजों के लिए बहुत उपयोगी है आडू (Peach Benefits for Gout in Hindi)

बढ़ती उम्र में गठिया की शिकायत होना आम समस्या है। इस रोग के कारण जोड़ों और घुटनों में दर्द होने लगता है। अगर आप गठिया के दर्द से परेशान हैं तो आड़ू के तने की छाल को पीसकर जोड़ों पर लगाएं। इसे लगाने से गठिया का दर्द दूर होता है।

पथरी के इलाज में फायदेमंद है आडू (Peach benefits for Stone in Hindi)

विशेषज्ञों के अनुसार, आडू खाने से किडनी की पथरी के इलाज में मदद मिलती है। अगर आप किडनी की पथरी के मरीज हैं तो रोजाना आडू खाएं इससे पथरी छोटे छोटे टुकड़ों में टूटकर शरीर से बाहर निकल जाती है। पथरी के मरीजों को अपने खानपान पर विशेष ध्यान देना चाहिए।

कब्ज की दवा है आडू (Peach benefits for Constipation in Hindi)

गलत खानपान और अनियमित जीवनशैली के कारण अधिकांश लोग कब्ज की समस्या से परेशान रहते हैं। कब्ज के कारण लोगों को शौच के दौरान काफी कठिनाई होती है। इस समस्या से बचने के लिए आप आडू के फल का सेवन करें। रोजाना रात में सोने से पहले छिलका सहित एक आडू खाएं। ऐसा नियमित करने से कब्ज की समस्या दूर हो जाती है।

पेट या आंत का दर्द दूर करने में सहायक है आडू (Peach reduces Stomach Pain in Hindi)

पेट में कीड़े पड़ने की समस्या हो या फिर पेट दर्द , आडू इन समस्याओं में राहत दिलाने में मदद करता है। विशेषज्ञों के अनुसार, 10-20 एमएल आडू के रस में 500 मिलीग्राम अजवाइन चूर्ण और 125 मिलीग्राम हींग मिलाकर पीने से पेट दर्द से आराम मिलता है और पेट के कीड़े भी खत्म होते हैं।

कान के दर्द से आराम दिलाता है आडू (Peach Benefits for Ear Pain in Hindi)

कान में दर्द होना एक आम समस्या है, अगर आप कान दर्द से परेशान हैं तो आडू का फल आपके लिए उपयोगी है। कान के दर्द से आराम पाने के लिए आडू के बीज से तैयार तेल की एक दो बूंदें कान में डालें।

आडू के उपयोगी भाग (Useful Parts of Peach)

उपयोग के दृष्टि से देखा जाए तो आडू के पेड़ के निम्न हिस्से सेहत के लिए क्यादा गुणकारी हैं।

पत्तियां ,फल ,गुठली ,तने की छाल ;

आडू के सेवन का तरीका (How to Use Peach?)

सामान्य तौर पर कोई भी व्यक्ति आडू का फल खाकर उसके फायदों से लाभान्वित हो सकता है। यदि आप किसी ख़ास बीमारी के घरेलू इलाज के लिए आडू का इस्तेमाल करना चाहते हैं तो बेहतर होगा कि किसी आयुर्वेदिक चिकित्सक की सलाह के अनुसार ही इसका उपयोग करें।

आडू के नुकसान :Side Effects of Peach

यूनानी मतानुसार वात एवं कफ प्रकृति के लोगों को आडू का सेवन सूझबूझ के साथ ही करना चाहिये ।

नोट – ऊपर बताये गए उपाय और नुस्खे आपकी जानकारी के लिए है। कोई भी उपाय और दवा प्रयोग करने से पहले आयुर्वेदिक चिकित्सक की सलाह जरुर ले और उपचार का तरीका विस्तार में जाने।

आडू कहाँ पे पाया या उगाया जाता है (Where is Peach Found or Grown?)

(Peach ) आडू की खेती उत्तरी भारत में विशेषत 3200 मी की ऊँचाई वाले पहाड़ी इलाकों जैसे कि कश्मीर, उत्तराखण्ड और हिमाचल प्रदेश में की जाती है।

ध्यान दें :- Dcgyan.com के इस लेख (आर्टिकल) में आपको आडू  के फायदे, प्रयोग, खुराक और नुकसान के विषय में जानकारी दी गई है,यह केवल जानकारी मात्र है | किसी व्यक्ति विशेष के उपयोग करने से पहले चिकित्सक से परामर्श करना आवश्यक है