हाइट बढ़ाने में सहायक है यह 7 योगासन

आज हर इंसान चाहता है कि वह बहुत ही स्मार्ट दिखे, उसकी पर्सनालिटी अच्छी हो । इसके लिए वह तरह तरह की कोशिशें भी करता है। जैसे जिम में जाकर अपने मांसपेशियों को मजबूत और एक बेहतर शक्ल देने की कोशिश करते है। तो वही चेहरे पर कई तरह की कॉस्मेटिक क्रीम का उपयोग करते है।लेकिन इतना सब करने के बाद कुछ लोगों के मन में अपनी लंबाई को लेकर हमेशा शिकायत रहती है। हमे हमेशा लगता है कि थोड़ा लंबाई और होती तो बेहतर होता। इसी समस्या के समाधान के लिए हम तरह तरह के उपाय ढूंढते रहते है। पर यदि योग की शरण मे जाया जाए तो पता चलता है कि यहाँ हमे कई तरह के ऐसे आसन मिलते है, जो न सिर्फ हमारी लंबाई बढ़ाने में सहायक होते है, बल्कि कई अन्य तरह से भी स्वास्थ्य लाभ देते है।

हाइट बढ़ाने में सहायक है यह 7 योगासन
7 Yoga for Height Increase in Hindi

बच्चों की हाइट बढ़ाने के लिए कारगर 7 योगासन,

जिन लोगों की हाइट कम होती है। वे लोग अपने पर्सनालिटी में कुछ कमी सी महसूस करते हैं। परफेक्ट पर्सनालिटी पाने के लिए लंबा कद होना बहुत जरूरी है। लंबाई कम होने के कई कारण हो सकते हैं, जिसमें सबसे महत्वपूर्ण रोल आनुवांशिक गुण अदा करते हैं, लेकिन यदि आप चाहते हैं कि आपकी हाइट बढ जाए तो इसमें योग आपकी निश्चित रूप से सहायता कर सकता है। माना जाता है कि प्रोटीन युक्त भोजन करने से व नियमित रूप से दस मिनट योगासन करने से हाइट बढ़ती है।

हाइट के फैक्टर

न्यूट्रिशन

वर्कआउट

ग्रोथ हार्मोन

नींद का पैटर्न

पॉश्चर

इम्युनिटी

जेनेटिक 

हाइट बढ़ाने के टिप्स

30 मिनट योग करें

जंकफूड बंद कर दें

आधा घंटा दूप में बैठें

फल खाएं

हरी सब्जियां खाएं

आउटडोर गेम खेलें

हाइट बढ़ाने के लिए क्या खाएं?

गाजर

मेथी

सोया

डेयरी प्रोडक्ट

जौ आटा

इन चीजों का भी करें सेवन

दूध, दही, छाछ, घी, सोयाबीन

इससे शरीर को प्रोटीन मिलता है

मल्टी ग्रेन आटे का सेवन करें

गेहूं, सोयाबीन, चना, जौ का आटा खाएं

बच्चों के लिए सुपरफूड

बींस

शकरकंद

मसूर की दाल

बच्चों में मोटापा कैसे करें कंट्रोल?

घर पर बना खाना दें

फल-सब्जी की मात्रा बढ़ाएं

जंक फूड बंद कर दें

खाते वक्त टीवी बंद रखें

वर्कआउट, योग कराएं

कैल्शियम बढ़ाने के लिए क्या खाएं?

दूध

दूध में शतावर

बनाना शेक

खजूर

अंजीर

बच्चों में ये आदत डालें

स्क्रीन टाइम कम रखें

सोशल मीडिया से दूर रखें

सुबह जल्दी उठें

रात में समय से सोएं

टाइम टेबल बनाएं

Yoga for Height Increase in Hindi

आज हम आपको बताने जा रहे हैं कुछ ऐसे योगासनों के बारे में जिनके नियमित अभ्यास से कम हाइट की समस्या से निजात मिल सकती है।

 

1.भुजंगासन (Bhujangasana / Cobra Pose)

भुजंगासन हमारी पीठ को मजबूत और रीढ़ की हड्डी को लचीला बनाता है। ये हमारे पाचन और प्रजनन तंत्र को मजबूत बनाता है। इस आसन के नियमित अभ्यास से शरीर का ढांचा सुडौल हो जाता है और हाइट के सही विकास में मदद मिलती है।

इसके अलावा, ये आसन हमारे चक्रों को भी खोलने में अहम भूमिका निभाता है। जैसे, भुजंगासन के अभ्यास से हमारे शरीर के 7 में से 4 चक्रों को खोलने में मदद मिलती है। ये 4 चक्र हैं विशुद्धि चक्र, अनाहत चक्र, मणिपूर चक्र और स्वाधिष्ठान चक्र।

2.पश्चिमोत्तानासन (Paschimottanasana / Seated Forward Bend)

पश्चिमोत्तानासन रीढ़ की हड्डी में खिंचाव उत्पन्न करता है और उन्हें लचीला बनाने का काम करता है। इसके अलावा इस आसन का अभ्यास करने से व्यक्ति की लंबाई भी बहुत आसानी से बढ़ने लगती है।

सही तरीके से पश्चिमोत्तानासन का अभ्यास करते समय पेट (Abdomen) की मांसपेशियां खिंचती हैं, जिसके कारण पेट और उसके आसपास की जगहों पर जमी चर्बी दूर हो जाती है। इससे भी हाइट के सही विकास में मदद मिलती है।

 

3.ताड़ासन  (Tadasan):-

ताड़ासन के नियमित अभ्यास से कमर आकर्षक बनती है। हाइट बढ़ती है व शरीर स्वस्थ रहता है।

विधि – सबसे पहले जमीन पर कंबल बिछाकर सीधे खड़े हो जाएं। अपने दोनों पैर को आपस में मिलाकर और दोनों हाथों को भी सामान्य अवस्था में रखें। पूरे शरीर को स्थिर करें। उसके बाद दोनों हथेलियों की उंगलियों को मिलाकर सिर के ऊपर ले जाएं। हथेलियों को सीधी रखें फिर सांस भरते हुए अपने हाथों को ऊपर की ओर खींचिए, जिससे आपके कंधों और छाती में भी खिंचाव आएगा। इसके साथ ही पैरों की एड़ी को भी ऊपर उठाएं और पैरों की उंगलियों पर शरीर का संतुलन बनाए रखिए. इस स्थिति में कुछ देर रहें।कुछ देर रुकने के बाद सांस छोड़ते हुए हाथों को वापस सिर के ऊपर ले आएं। इस आसन को प्रतिदिन 10-12 बार करें।

4.त्रिकोणासन(Trikonasana):-

त्रिकोणासन भूख, पाचन और रक्त परिसंचरण में सुधार कर, एसिडिटी, पेट फूलना आदि रोगों से राहत दिलवाता है| इस आसन में शरीर का आकार एक त्रिकोण के समान बन जाता है। इसलिए इसे त्रिकोणासन कहते हैं।

विधि – दोनों पैरों को दो फुट की दूरी पर रखकर सीधे खड़े हो जाइए। फिर दोनों हाथों को कंधो की समरेखा में सीधे फैलाएं। अब आपकी भुजाएं जमीन के बिल्कुल समानान्तर होनी चाहिए। धीरे-धीरे राइट ओर झुकें। लेफ्ट घुटना सीधा और तना हुआ रहे। अब राइट पैर के अंगूठे को राइट हाथ की उंगलियों से स्पर्श करें। गर्दन को थोडा-सा राइट ओर झुकाएं। अब लेफ्ट भुजा को ऊपर की ओर फैलाएं। इस स्थिति में 2-3 मिनट रहें व धीरे-धीरे सांस लें। इसी प्रकार लेफ्ट ओर भी इस प्रक्रिया को दोहराएं।

5.हलासन(Halasana):-

हलासन में शरीर का आकार हल जैसा बनता है, इसलिए इसे हलासन कहते हैं। हलासन हमारे शरीर को लचीला बनाने के लिए महत्वपूर्ण है। इससे हमारी रीढ़ हमेशा जवान बनी रहती है।

विधि – इसे करने के लिए पीठ के बल जमीन पर सीधे लेट जाएं। दोनों हाथों को किनारे रखें और उनकी सहायता से हिप्स और पैरों को ऊपर उठाएं। सहायता के लिए दोनों हाथों को हिप्स से टिकाएं। अब दोनों पैरों से माथे के नीचे की जमीन छूने की कोशिश करें। इस दौरान गहरी सांस लें और पैरों को फिर सांस छोड़ते हुए सीधा करें। धीरे-धीरे पैरों को जमीन पर लाएं और सीधे लेट जाएं। इसके नियमित अभ्यास से बाल नहीं गिरते, कब्ज, गैस व एसिडिटी जैसी समस्याएं दूर रहती हैं। दमा, कफ और दूसरे विकार भी दूर होते हैं व हाइट भी बढ़ती है।

6.शीर्षासन (Shirshasana):-

सिर के बल किए जाने की वजह से इसे शीर्षासन कहते हैं।

विधि – दोनों घुटने जमीन पर टिकाते हुए फिर हाथों की कोहनियाँ जमीन पर टिकाएं। फिर हाथों की अंगुलियों को आपस में मिलाकर ग्रिप बनाएं, तब सिर को ग्रिप बनी हथेलियों के पास भूमि पर टिका दें। इससे सिर को सहारा मिलेगा। फिर घुटने को जमीन से उपर उठाकर पैरों को लंबा कर दें। फिर धीरे-धीरे पंजे टिके दोनों पैरों को पंजों के बल चलते हुए शरीर के करीब अर्थात माथे के नजदीक ले आएं। फिर पैरों को घुटनों से मोड़ते हुए उन्हें धीरे से ऊपर उठाते हुए सीधा कर दें। इसके बाद पूरी तरह सिर के बल शरीर को टिका लें। कुछ देर इसी अवस्था में रहने के बाद पुन: उसी अवस्था में आने के लिए पहले पैर घुटने से मोड़ते हुए धीरे-धीरे घुटनों को पेट की तरफ लाते हुए पंजों को भूमि पर रख दें। फिर माथे को भूमि पर टिकाकार कुछ देर इसी स्थिति में रहने के बाद सिर को भूमि से उठाते हुए वज्रासन में बैठकर पूर्व स्थिति में आ जाएं।

7.सर्वांग आसन (Sarvangasana):-

सर्वांग आसन एक संपूर्ण आसन है जो एक साथ कई लाभ पहुंचा सकता है। इससे तनाव थकावट दूर होती है, भूख बढ़ती है, सिरदर्द आंखों के दर्द से राहत मिलती है। पेट से जुड़ी सारी समस्याएं खत्म हो जाती हैं। इसके अलावा सर्वांग आसन चेहरे की सुंदरता को बढ़ाता है और आपकी याद्दाश्त भी तेज करता है।

विधि – दरी या चटाई बिछाकर पीठ के बल एकदम सीधे लेट जाएं। पैर और शरीर तना हुआ रहेगा। सांस खींचकर पहले धीरे-धीरे पैरों को ऊपर उठाएं, फिर कमर को और फिर चेस्ट तक के भाग को ऊपर उठाएं। दोनों हाथों को कोहनी से मोड़कर कमर पर लगाकर कमर को थामकर रखें। इस स्थिति में पूरे शरीर का भार कंधों पर रहना चाहिए। साथ ही कंधे से कोहनी तक के भाग को फर्श से सटाकर रखें तथा ठोड़ी को चेस्ट से लगाने की कोशिश करें। इस स्थिति में 30 सेकंड तक रहें और सामान्य रूप से सांस लेते और छोड़ते रहें। धीरे-धीरे इसका अभ्यास बढ़ाकर आसन की स्थिति में 3 मिनट तक रह सकते हैं। शरीर को ढीला छोड़कर घुटनों को मोड़कर धीरे-धीरे शरीर को हथेलियों के सहारे से सामान्य स्थिति में ले आएं।10 सेकंड तक आराम करें और पुन: इस आसन को करें। इस क्रिया को कम से कम तीन बार करें।

विशेष: प्रारम्भ में किसी भी योगासन को किसी योग्य योग शिक्षक के मार्गदर्शन में करें। योग एक ऐसी प्राचीन कला है जिसका नियमित अभ्यास चमत्कार कर सकता है। किसी भी अन्य अभ्यास की तरह,योग को भी प्रशिक्षित विशेषज्ञों से ही सीखना चाहिए। योग का अभ्यास शरीर और मन को विकसित कर स्वास्थ्य दिलाता है| लेकीन वह दवाओंका विकल्प नही हो सकता|